Monday, 17 May 2010

नायिका के रूप

यूं तो स्त्रियों के चार भेद किये गए हैं : पद्दमिनी, चित्रानी, शंखिनी और हस्तिनी| परन्तु कामसूत्र में व्यवाहिक कन्या पार्दाषिक तथा वैशिक प्रकरणों में नायिका भेद का विस्तार से वर्णन किया गया है और काव्यशास्त्र नें इन्सी वर्गीकरण को अपनी स्वीकृति भी दी है| और वहीँ अधिकतर चित्र भी इसी भेद पर आधारित हैं| वात्सयायान कामसूत्र के अनुसार नायिका के तीन भेद किये गए हैं :

स्वकीया
: स्वकीया नायक की पत्नी होती है अत: इसमें किसी भी तरह का सामाजिक संकोच नहीं होता| श्रृंगार व कायाशास्त्रों में "स्वकीया" नायिका को सर्वोच्च स्थान दिया गया है और इसे 'ज्येष्ठ' नायिका बी कहा जाता है| स्वकीया नायिका के तीन रूप मिलते हैं : मुग्धा, मध्या और प्रौढ़ा|
  1. मुग्धा : मुग्धा या तो नवविवाहिता होती है या फिर वो पतनी अपने पति के स्वाभाव से परिचि होती है| मुग्धा अपने यौवन के शीर्ष पर होती है|
  2. मध्या: मध्य पति सुख की अभिलाषी होती है जिसे बिहारी नें कुछ इस तरह चरितार्थ किया है : धीर, अधीर और धीराधीरा|
  3. प्रौढ़ा : प्रौढ़ा एक अनुभवी स्त्री है और वह अपने पति से खुल कर बात कर सकती है| यही नहीं यदि ज़रूरत पड़े तो वह अपने पति को लताड़ भी सकती है| प्रौढ़ा को  दो वर्गों में बांटा गया है : ज्येष्ठा और निष्ठा|
परकीया : परकीया नायिका में कामोतेजना सबसे अधिक होती है परन्तु इसे लोक और समाज का भय बी अधिक होता है| परकीय नायिका को कनिष्ठा भी कहा जात है और यह दो प्रकार की होती हैं: कन्या और प्रौढ़ा| परकीया के प्रेम में तीव्रता और आकर्षण अधिक होता है और इसकी निम्न अवस्थाएं हैं :
  1. गुप्ता : यह नायिका अपने प्रेम भाव को सखियों पर प्रकट नहीं होने देती|
  2. विदग्धा: इसके प्रेम को केवल नायक ही समझ सकता है|
  3. लक्षित: यह प्रेम व्यापार को नहीं छुपाती|
  4. कुलता: कुलता वह नायिका है जो किसी भी नायक से प्रेम करने लगाती है| उसे पंशुचाली भी कहा जाता है|
  5. अनुशयाना: जो प्रियतम गमन ना हो सकने पर पश्ताचाप कराती है|
  6. मुदिता: जो सम्भोग सुख की संभावना से प्रसन्नता प्राप्त करती है|
साधारणी : साधारणी लोक लज्जा के बंधनों से मुक्त होती है और इसे वैश्या भी कहते हैं| इसे परित्यक भी कहा गया है अत: काव्य मनीषियों नें स्वकीया व् परकीया प्रेम को ही अपना केंद्र बिंदु बनाया है|

5 comments:

  1. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  2. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  3. चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है। पहाड़ी संस्कृति पर फोकस करें तो काभी उम्दा प्रयास होगा। हिंदी ब्लागिंग को आप और ऊंचाई तक पहुंचाएं, यही कामना है।
    ब्लागिंग के अलावा आप बिना किसी निवेश के घर बैठे रोज 10-15 मिनट में इंटरनेट के जरिए विज्ञापन और खबरें देख कर तथा रोचक क्विज में भाग लेकर ऊपरी आमदनी भी कर सकते हैं। इच्छा हो तो विवरण के लिए यहां पधार सकते हैं -
    http://gharkibaaten.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  5. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा या प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete

Re-Discover Himachal